बैंक ऑफ़ बड़ौदा द्वारा इंटरनेट बैंकिंग की हिंदी सेवा का शुभारंभ

बैंक के वरिष्‍ठ कार्यपालकों के लिए गृह मंत्रालय के सहयोग से नई दिल्‍ली में तकनीकी कार्यशाला का आयोजन

बैंक ऑफ़ बड़ौदा, अंचल कार्यालय, नई दिल्‍ली द्वारा नई दिल्ली अंचल के वरिष्ठ कार्यपालकों के लिए “तकनीक के साथ, राजभाषा का विकास” विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया. बैंक द्वारा आयोजित इस भव्‍य संगोष्‍ठी की मुख्‍य अतिथि सुश्री अंशुली आर्या (आई.ए.एस) सचिव, भारत सरकार, गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग रहीं तथा कार्यक्रम की अध्‍यक्षता श्री अमित तुली, महाप्रबंधक एवं अंचल प्रमुख, नई दिल्ली अंचल ने की.

संगोष्‍ठी की शुरूआत श्री अमित तुली के स्‍वागत वक्‍तव्‍य के साथ हुई. स्‍वागत वक्‍तव्‍य के पश्‍चात् कार्यक्रम में आमंत्रि‍त मुख्‍य अतिथि सुश्री अंशुली आर्या (आई.ए.एस), सचिव, भारत सरकार, राजभाषा‌ विभाग के द्वारा बैंक की इंटरनेट बैंकिंग की हिंदी सेवा का शुभारंभ किया गया. इसके अलावा कार्यक्रम में सचिव महोदया के हाथों बैंक की वार्षिक राजभाषा कार्य योजना 2022-23 का भी विमोचन किया गया.

इस अवसर पर श्री संजय सिंह, प्रमुख (राजभाषा एवं संसदीय समि‍ति) ने बैंक द्वारा शुरू की गई राजभाषा संबंधी पहलों के बारे में विस्‍तारपूर्वक प्रस्‍तुति दी. तत्पश्‍चात् सचिव महोदया ने ‘राजभाषा कार्यान्‍वयन में वरिष्‍ठ कार्यपालकों की भूमिका’ विषय पर अपना मार्गदर्शी संबोधन प्रस्‍तुत किया जिसमें उन्‍होंने बैंक की प्रस्‍तुति की सराहना की. उन्‍होंने बैंक की ‘भाषायी चौपाल’ पहल और राजभाषा में उल्लेखनीय योगदान हेतु वार्षिक कार्य-निष्पादन मूल्यांकन में दिए जाने वाले अंकों के प्रावधानों को विशेष तौर पर रेखांकित करते हुए बैंक द्वारा किए गए नवोन्‍मेषी कार्यों को राजभाषा के क्षेत्र में मील का पत्थर बताया.

इस कार्यक्रम में श्री अमित तुली ने अध्यक्षीय संबोधन में हिन्दी को मन से अपनाने और अंग्रेजी के मोह से उबरने का आग्रह किया. तकनीकी सत्र का संचालन श्री राजेश श्रीवास्तव, उप निदेशक, राजभाषा विभाग और श्री पंकज कुमार वर्मा, मुख्य प्रबंधक (राजभाषा), नई दिल्ली अंचल ने किया. कार्यक्रम का संचालन श्री पुनीत कुमार मिश्र, सहायक महाप्रबंधक, राजभाषा विभाग, प्रधान कार्यालय ने किया. संगोष्ठी में नई दिल्ली अंचल के विभागों के प्रमुख, क्षेत्रीय व उप क्षेत्रीय प्रमुखों सहित अंचल की विभिन्न शाखाओं में शाखा-प्रमुख के तौर पर पदस्थापित ‌कार्यपालकों ने भाग लिया जिनकी कुल संख्या 100 से अधिक रही.

Related Articles

Back to top button
English News