वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन द्वारा आज जारी डाटा के अनुसार विश्व के 10 सबसे बड़े उत्पादक देशों में

केवल भारत ने जनवरी से मार्च 2022 की अवधि में स्टील उत्पादन में वृद्धि दर्ज की

केंद्रीय इस्पात मंत्री श्री राम चन्द्र प्रसाद सिंह ने विश्व स्तर पर अनूठे प्रदर्शन के लिए भारतीय इस्पात उद्योग की प्रशंसा की और भरोसा जताया कि यह श्रेष्ठ उत्पादन, वर्ष 2022 में भी जारी रहेगा । उन्होंने कहा कि अमृत काल के आगामी 25 वर्षों में देश की स्टील उत्पादन क्षमता को 500 मिलियन टन तक बढ़ाने में इस उत्पादन गति से मदद मिलेगी ।

वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन संस्था द्वारा 22 अप्रैल को जारी किए गए डाटा के अनुसार, विश्व के 10 सबसे बड़े स्टील उत्पादक देशों में केवल भारत ने जनवरी से मार्च 2022 की अवधि में उत्पादन में वृद्धि दर्ज की है । भारत ने इस अवधि में 31.9 मिलियन टन उत्पादन कर, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 5.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है । मार्च 2022 में 10.9 मिलियन टन उत्पादन के साथ वृद्धि की दर 4.4 प्रतिशत है । 10 देशों में केवल ब्राजील एक और देश है जिसने मार्च माह में वृद्धि दर्ज की है ।

इस्पात मंत्री ने इसी सप्ताह स्टील की सरकारी और निजी कंपनियों से अलग अलग मुलाकात कर उनके पूंजी निवेश, उत्पादन लक्ष्य और भविष्य की योजनाओं की समीक्षा की है । उन्होंने 2070 तक देश के कार्बन न्यूट्रल के लक्ष्य, हाइड्रोजन मिशन और ग्रीन – क्लीन स्टील को ध्यान में रख कर भविष्य की योजनाओं को बनाने के लिए कहा । इस्पात उद्योग के प्रतिनिधियों ने इस्पात मंत्रालय के नेतृत्व और अधिकारियों के निरंतर मिल रहे मार्गदर्शन और सहयोग की खुले मन से प्रशंसा की है।

Related Articles

Back to top button
English News